लाल बहादुर शास्त्री जयंती 2023: तिथि, इतिहास और महत्व - Blogging Haunt - ब्लॉगिंग हॉन्ट्

लाल बहादुर शास्त्री जयंती 2023: तिथि, इतिहास और महत्व

2 अक्टूबर 2023 को भारत के दूसरे प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 119वीं जयंती है। इस दिन को लाल बहादुर शास्त्री जयंती के रूप में मनाया जाता है।

लाल बहादुर शास्त्री जयंती 2023

2 अक्टूबर को, भारत एक नहीं बल्कि दो महान नेताओं का जश्न मनाता है जिन्होंने देश के इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी। जबकि दुनिया इस दिन गांधी जयंती मनाती है। यह एक अन्य उल्लेखनीय नेता, लाल बहादुर शास्त्री की जयंती मनाने का भी अवसर है। 2023 में, लाल बहादुर शास्त्री जयंती का विशेष महत्व है क्योंकि हम उस व्यक्ति के जीवन और विरासत को याद करते हैं जिन्होंने भारत के दूसरे प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। 2 अक्टूबर, 1904 को मुगलसराय, उत्तर प्रदेश में पैदा हुए लाल बहादुर शास्त्री देश के प्रति समर्पण एवं निस्वार्थ सेवा की भावना के कारण एक स्थायी प्रतीक बने हुए हैं।

लाल बहादुर शास्त्री का प्रारंभिक जीवन और शैक्षिक जीवन:

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म एक साधारण निम्नवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता, शारदा प्रसाद श्रीवास्तव, एक शिक्षक थे और उनकी माँ, रामदुलारी देवी, एक गृहिणी थीं। लाल बहादुर श्रीवास्तव के नाम से जन्मे, उन्होंने अपनी शैक्षणिक उत्कृष्टता के कारण ‘शास्त्री’ की उपाधि अर्जित की। शिक्षा के प्रति यह प्रतिबद्धता उनके पूरे जीवन में एक निर्णायक विशेषता रहेगी, क्योंकि वे न केवल एक योग्य राजनेता बने बल्कि एक सैद्धांतिक व्यक्ति और कार्यकर्ता भी बने।

राजनीतिक कैरियर:

लाल बहादुर शास्त्री की राजनीतिक यात्रा की विशेषता भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस राजनीतिक दल के प्रति अटूट समर्पण थी। उन्होंने 1964 से 1966 में अपने असामयिक निधन तक भारत के दूसरे प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। प्रधान मंत्री के रूप में उनका कार्यकाल भारत के लिए महत्वपूर्ण परिवर्तन और प्रगति का काल था।

एक नेता के रूप में, उन्होंने विदेश मंत्री और रेल मंत्री सहित विभिन्न प्रमुख पदों पर कार्य किया। उनके कार्यकाल को कई उल्लेखनीय उपलब्धियों द्वारा चिह्नित किया गया था, जिसमें ताशकंद समझौते पर हस्ताक्षर करना भी शामिल था, जिसका उद्देश्य भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम करना था। इस कूटनीतिक सफलता ने उन्हें वैश्विक मंच पर सम्मान दिलाया।

लाल बहादुर शास्त्री का “जय जवान जय किसान”:

लाल बहादुर शास्त्री की स्थायी विरासतों में से एक “जय जवान जय किसान” का नारा है, जिसका अनुवाद “सैनिक की जय, किसान की जय” है। इस शक्तिशाली वाक्यांश ने देश की समृद्धि में सैनिकों और किसानों के महत्वपूर्ण योगदान पर जोर दिया। इसने राष्ट्र की रक्षा करने वालों और इसे खिलाने वालों का समर्थन और सम्मान करने की आवश्यकता को रेखांकित किया। यह नारा भारतीय भावना को गहराई से प्रेरित और प्रतिध्वनित करता है।

लाल बहादुर शास्त्री जयंती 2023 का महत्व:

लाल बहादुर शास्त्री जयंती का भारत में बहुत महत्व है। यह उस नेता को याद करने का दिन है जिन्होंने भारतीय समाज में सकारात्मक और आवश्यक बदलाव लाए। उनके योगदान में शिक्षा में प्रगति और महिलाओं का सशक्तिकरण शामिल है, जो राष्ट्र के लिए उनकी प्रगतिशील दृष्टि को दर्शाता है।

लाल बहादुर शास्त्री जयंती का उत्सव:

गांधी जयंती के समान, लाल बहादुर शास्त्री जयंती एक सार्वजनिक अवकाश है और भारत की महत्वपूर्ण राष्ट्रीय छुट्टियों में से एक है। इस दिन, सभी वर्गों के लोग नई दिल्ली के विजय घाट स्थित उनकी समाधि पर जाकर फूल और माला चढ़ाकर उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं।

पूरे भारत में लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमाओं को मालाओं, फूलों और मोमबत्तियों से सजाया गया है। शैक्षिक संस्थागत और सरकारी कार्यालय भी उत्सव में भाग लेते हैं, क्विज़ प्रतियोगियों, भाषणों और बहुत कुछ जैसे विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। युवा पीढ़ी के दिलों में उनकी विरासत को जीवित रखने के लिए छात्र अक्सर गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की पोशाक पहनते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *